हाथरस हादसे पर त्रिवेणी की शोक बैठक

हाथरस हादसे पर त्रिवेणी की शोक बैठक

रिपोर्ट विकास तिवारी

प्रबोधिनी फाउंडेशन, इनरह्वील क्लब एवं मदरसा अरबिया की ओर से भी श्रद्धांजलि

 

मिर्जापुर। जीवन बहुमूल्य है। इसकी रक्षा हर प्रकार की जाती है। इसके लिए खुद सजग रहना तथा लोगों को सजग करने का सिलसिला चलता चला आ रहा है। हर जिंदगी का अपना रिश्ता तथा दायरा होता है। किन्हीं कारणों से जिंदगी पर मृत्यु का आक्रमण होता है और वह जीत जाती है तो परिवार से लेकर समाज तक में जो रिक्तता आती है वह अत्यंत ही असहनीय, दुःखद और कष्टदायी होती है। संबन्धों से जुड़े लोगों का भी जीवन बिखर जाता है।

इन्हीं भावनाओं के साथ सामाजिक सरोकारों से जुड़ी त्रिवेणी संस्था की एक आकस्मिक बैठक नगर के बरियाघाट स्थित द सिटी लान में हुई। इस बैठक में प्रबोधिनी फाउंडेशन एवं इनरह्वील क्लब की भी भागीदारी रही। बैठक में 2 जुलाई, मंगलवार को हाथरस जिले में एक सत्संग के दौरान भगदड़ से हुई 122 जिंदगियों की दुर्भाग्यजनक मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया गया। यहां उपस्थित लोगों के विचार थे कि यह मानव सृजत आपदा है। अविवेकपूर्ण व्यवस्था से कितनों की गोद सूनी हो गई तो कितनों की मांग के सिंदूर धुल गए तथा कितने परिवारों के आश्रयदाता वटवृक्ष जैसे सदस्य इस दुनियां से चल बसे। भावनाओं के क्रम में कहा गया कि इसकी भरपायी तो किसी तरह नहीं की जा सकती है फिर भी सरकार एवं मानव सेवा के लिए तत्पर रहने वाली संस्थाएं इनके साथ खड़ी होकर प्रभावपूर्ण सहारा तो दे सकती हैं।

इसी कड़ी में गत महीनों में प्राकृतिक प्रकोप में जान गंवाने वालों के प्रति भी संवेदना प्रकट की गई। इसमें देश के विभिन्न हिस्सों के साथ मुस्लिम धर्म के आस्थास्थल मक्का में हीट स्ट्रोक से मरने वालों के लिए गहरा दुःख व्यक्त किया गया। इस अवसर पर बैठक में पर्यावरण संतुलन के लिए तेजी से कार्य किए जाने पर बल दिया गया।

बैठक में सभी धर्मावलंबी उपस्थित थे। प्रारंभ में दिवंगत आत्माओं के लिए शांति पाठ किया गया, मोमबत्ती जलाकर देवलोक की ओर गई ज्योति को नमन और अंत में दो मिनट का मौन रखा गया।

इस अवसर पर शहर मुफ़्ती और मदरसा अरबिया की ओर से अल्लाह से दुआ की गई।

शोक बैठक में रवींद्र कुमार पांडेय, विभूति मिश्र, नजम अली, अरविन्द अवस्थी, कमलेश दुबे, केशव पाठक,अनिल यादव, शिव शुक्ल, सलिल पांडेय, नन्दिनी मिश्र, विभा बैद, शुभा खंडेलवाल, सत्यंवदा सिंह, डॉ उषा कनक पाठक, निहारिका सेठ, दीपा सर्राफ एवं अमित कुमार आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!