अवैध रूप से प्लाटिंग पर लगाये अंकुश, प्राधिकरण के मानक के अनु सार हो कालोनी का विकास -मण्डलायुक्त

अवैध रूप से प्लाटिंग पर लगाये अंकुश, प्राधिकरण के मानक के अनु सार हो कालोनी का विकास -मण्डलायुक्त

रिपोर्ट विकास तिवारी

सुनियोजित ढंग से कार्ययोनजा बनाकर नगर का विकास -जिलाधिकारी

 

विन्ध्य विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक कर महायोजना पर की गयी चर्चा

 

मीरजापुर 07 जून, 2024- मण्डलायुक्त डाॅ0 मुथुकुमार स्वामी बी0 की अध्यक्षता में आयुक्त कैम्प कार्यालय के सभागार में विन्ध्य विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक कर नगर व उसके आस पास प्रस्तावित महायोजना के प्रस्ताव पर बोर्ड के सदस्यो की उपस्थिति में विस्तृत चर्चा की गयी। विन्ध्य विकास प्राधिकरण में अब तक कुल शामिल 6़8 गांव के अलावा महायोजना के अन्तर्गत 308 गांव और शामिल किये जाने पर मण्डलायुक्त की उपस्थिति में चर्चा की गयी। बैठक में मण्डलायुक्त ने कहा कि जनपद में विकास प्राधिकरण सीमान्तर्गत अथवा जहां भी विभिन्न बिल्डरो के द्वारा प्लाटिंग कर कालोनियां बनायी जा रही है, ऐसे अवैध ढंग से प्लाटिंग व कालोनियां पर अंकुश लगाया जाए। उन्होने कहा कि जो भी कालोनियां विकसित की जाए वह विन्ध्य विकास प्राधिकरण के मानक के अनुसार हो तथा सभी कालोनियों के नक्शा आदि प्राधिकरण के पास कराया जाए। उन्होने कहा कि नई बसायी जाने वाली कालोनियों में सड़क, पार्क, नाली सहित बुनियादी सुविधाए उपलब्ध होनी चाहिए। उन्होेने विन्ध्य विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि निर्माणाधीन विन्ध्य विश्वविद्यालय के आस पास कार्य योजना बनाकर विकास कराया जाए ताकि एक मिनी शहर की तरह उसका रूवरूप दिया जा सकें। इसी प्रकार मेडिकल कालेज के आस पास मेडिकल हब के रूप में विकसित करने की कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होने कहा कि नई रेलवे लाइन की तरफ इंडस्ट्रीयल एरिया के रूप में बनाये जाने के साथ ही महायोजना में बस स्टैण्ड को भी दर्शाया जाए।

जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने मण्डलायुक्त को बताया कि महायोजना के अन्तर्गत गंगा नदी के कटान को रोकने के दृष्टिगत एवं गंगा किनारे बसावट बस्तियो से आने वाले नाले, नालियो के पानी को रोकने के उद्देश्य से भटौली घाट से लेकर विन्ध्याचल तक गंगा के किनारे 20 मीटर चैड़ाई सड़क मार्ग (रिवर फ्रंट मार्ग) प्रस्तावित किया गया है, इस मार्ग के गंगा के किनारे की तरफ मजबूत दीवार बनाकर कटान को रोकने तथा बीच-बीच में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट बनाये जाने का भी प्रस्ताव शामिल हैं। प्रस्तावित महोयाजना के तहत स्मार्ट सिटी, औद्योगिक क्षेत्र, मेडिकल कालेज तथा विन्ध्य विश्वविद्यालय को ध्यान में रखते हुये प्रस्ताव बनाये गये हैं, ताकि विन्ध्याचल आने वाले यात्रियो के आवागमन की सुविधा होने के साथ ही गंगा नदी के कटान को रोकने व नालियो का पानी गंगा में जाने से रोका जा सकें।

बैठक में गिरीश नगर मजिस्ट्रेट/सचिव विन्ध्य विकास प्राधिकरण लाल बहादुर सिंह, चन्द्र अपर आयुक्त/संयुक्त निदेशक कोषागार प्रतिनिधि सचिव वित्त विभाग, आर0 उद्दयन प्रतिनिधि मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजक उत्तर प्रदेश लखनऊ, राजेन्द्र कुमार अधिशासी अभियन्ता अभवा खण्ड जल निगम मीरजापुर प्रतिनिधि प्रबन्धक निदेशक जल, सुधीर कुमार वर्मा सहायक अभियन्ता नगर पालिका के अलावा मा0 सदस्यगण में श्रीमती मालती त्रिपाठी, मणिशंकर मिश्र, ओमकार नाथ, अमित कुमार, बबिता मौर्या, विजय शंकर, आरती मोदनवाल सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!