श्री चित्रगुप्त मंदिर पर के. एस. पी. ट्रस्ट द्वारा एक शोकसभा का आयोजन किया गया।

रिपोर्ट विकास तिवारी

मीरजापुर। लब्धप्रतिष्ठ नवगीतकार स्व. शुभम श्रीवास्तव “ओम” के असामयिक निधन पर स्थानीय बरियाघाट स्थित श्री चित्रगुप्त मंदिर पर के. एस. पी. ट्रस्ट द्वारा एक शोकसभा का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर भावुक होते हुए प्रसिद्ध नवगितकार गणेश गंभीर ने रुंधे गले से कहा कि अपने श्रेष्ठ सृजन से नवगीतकारों की परंपरा को समृद्ध कर आगे बढ़ाने वाले व आधा दर्जन से भी अधिक मौलिक / संपादित नवगीत कृतियों के प्रणेता शुभम ओम के रूप में हिंदी नवगीत ने एक ऐसी समर्थ कलम खो दी है, जिसके नहीं होने की कचोट साहित्य जगत को हमेशा ही बनी रहेगी।

के. एस. पी. ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. शक्ति श्रीवास्तव ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हिंदुस्तानी एकेडमी युवा सम्मान, हरिवंश राय बच्चन युवा गीतकार सम्मान व राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान के फिराक गोरखपुरी सम्मान सहित दर्जनों प्रतिष्ठित सम्मानों से अलंकृत उत्तर प्रदेश साहित्य सभा के जनपद संयोजक शुभम श्रीवास्तव “ओम” अत्यंत ही विनम्र, मृदुभाषी तथा सभी के प्रिय व आत्मीय थे, उनका निधन हृदय विदारक व मर्माहत करने वाला है।

शोकसभा में मुख्य रूप से वरिष्ठ नव गीतकार गणेश अवस्थी, ट्रस्ट के अध्यक्ष, डॉ. शक्ति श्रीवास्तव, राजेन्द्र लल्लू तिवारी, दिलीप श्रीवास्तव, शिवम श्रीवास्तव, मनोज चित्रांश, पंकज श्रीवास्तव, सुशील श्रीवास्तव, सुधीर श्रीवास्तव, डॉ. रमाशंकर शुक्ला, इरफान कुरैशी, नरेन्द्र श्रीवास्तव, राजेश श्रीवास्तव, दुर्गा जी श्रीवास्तव, हरी शंकर श्रीवास्तव, रूपेश वर्मा, आनंद श्रीवास्तव, जगदीश श्रीवास्तव, मधुर श्रीवास्तव, डॉ. पी. पी. श्रीवास्तव, आश्लेष श्रीवास्तव, रजत श्रीवास्तव व अमित श्रीवास्तव इत्यादि प्रमुख रूप से शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!