375000/-रुपये के नकली नोटों के साथ 01अभियुक्त दबोचा गया नकली नोटों का 01 सौदागर चढ़ा चन्दौली पुलिस के हत्थे

CHANDAULI UP

चन्दौली* नकली नोटों से देश की अर्थव्यवस्था को चपत लगा रहे शातिरों के नेटवर्क पर पुलिस ने बड़ा हमला किया है। चन्दौली जनपद के धानापुर पुलिस ने 01 शातिर अभियुक्त को 375000/- रूपये के जाली करेंसी नोट के साथ गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया शातिर लंबे समय से नकली नोटों को बाजारों में खपाने का काम करता था। प्रदेश सरकार की अपराध एवं अपराधियों के प्रति शून्य सहनशीलता की नीति पर चलते हुए जनपद चंदौली पुलिस ने नकली करेंसी के नेटवर्क को ध्वस्त किया है ।
पुलिस अधीक्षक चन्दौली डा0 अनिल कुमार द्वारा अपराध एवं अपराधियों के विरूद्ध कार्यवाही के निर्देश के क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक विनय कुमार सिंह के कुशल पर्यवेक्षण में क्षेत्राधिकारी सकलडीहा रघुराज के गहन पर्यवेक्षण व मार्गदर्शन में आगामी लोक सभा चुनाव को लेकर चलाये जा रहे महत्वपूर्ण दबिश, रात्रि गस्त व संदिग्ध व्यक्ति / वस्तु/वाहन के चेकिंग के दौरान थाना प्रभारी धानापुर प्रसांत सिंह को मुखबिर से सूचना मिली की थाना पर पंजीकृत अभीयोग मु.अ.सं. 0016/2024 धारा 489बी, 489सी भादवि जिसमे जाली नोट छापने व उसे बाजार मे चलाने का काम किया जाता था । जिसमें दो नफर अभियुक्त जिला कारागार में निरूद्ध कराया गया था। तथा एक अभियुक्त जो मुकदमा उपरोक्त में वांछित चल है । आज नगवां पुलिस चौकी चोचकपुर पीपा पुल के पास जाली नोट व जाली नोट छापने वाली मशीन के साथ मौजूद हैं तथा किसी का इन्तजार कर रहा है अगर जल्दी किया जाय तो पकड़ा जा सकता है । मुखबीर सूचना पर विश्वास करते हुए थाना प्रभारी धानापुर द्वारा मुखबिर खास की निशानदेही पर चोचकपुर पुल के पास पहुंच कर एक व्यक्ति जो हाथ में झोला लिये गत्ते के डिब्बे पर बैठा था को घेरकर पकड़ लिया गया।
पकड़े गये व्यक्ति से उसका नाम पता पूछा गया अपना नाम पता गोपाल पाण्डेय पुत्र अवधेश पाण्डेय निवासी भलुवाही थाना बघैला जनपद रोहतास बिहार उम्र करीब 45 वर्ष बताया। पकड़े गये व्यक्ति की तलाशी ली गयी तथा गत्ते को देखा गया तो वह एक प्रिन्टर का डब्बा था जिसे खोलकर देखा गया तो उसमें एक अदद प्रिन्टर EPSON कम्पनी का व अलग अलग रंग के इंक व केबल मिले तथा तीन अदद मुद्रा छापने वाला पेपर व विभिन्न सीरियल नं0 के 03 लाख 75 हजार जाली भारतीय मुद्रा (100 रूपये के 1700 जाली नोट तथा 500 रूपये के 410 जाली नोट) मिला ।
*पूर्व की धटना:-* थाना स्थानीय पर दिनांक 03.02.24 को थाना धानापुर पुलिस टीम द्वारा रूपये 118100/- (एक लाख अठ्ठारह हजार एक सौ रूपये) के जाली करेंसी नोट मय एक अदद मोटरसाईकिल मय 03 अदद मोबाईल व 01 अदद वाईफाई राऊटर के साथ 02 नफर शातिर अभियुक्तगण 1.अमरेश पाठक पुत्र शिवमूरत पाठक निवासी ग्राम बथावर थाना सकलडीहा जनपद चन्दौली 2. अरविन्द यादव पुत्र महेन्द्र यादव निवासी ग्राम कैलावर थाना बलुआ जनपद चन्दौली को गिरफ्तार किया गया था, जिनके विरूद्ध मु.अ.सं. 0016/2024 धारा 489बी, 489सी भादवि का अभियोग पंजीकृत कर अभियुक्तगणों को मा0 न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर जिला कारागार में निरूद्ध कराया गया था। जिसमें दो नफर अभियुक्त जिनके द्वारा नोटों की छपाई की जाती थी मुकदमा उपरोक्त में वांछित चल रहे थे, जिनकी लगातार तलाश की जा रही थी।
*पूछताछ अभियुक्त –*
अभियुक्त गोपाल पाण्डेय पुत्र अवधेश पाण्डेय निवासी ग्राम भलुवाही थाना बघैला जनपद रोहतास बिहार पूछने पर बताया कि हम लोग साहब मै तथा मेरा भाई गोकुल पाण्डेय पहले अहमदाबाद में कम्प्यूटर प्रिन्टिंग के माध्यम से साड़ी व कपड़े प्रिन्ट व डिजाईन का कार्य करते थे, कोरोना काल में लाकडाऊन की वजह से फैक्ट्री बन्द हो गयी तो हम लोग घर आ गये, परिवार के पालन पोषण में समस्या होने लगी आर्थिक तंगी के कारण हम लोगों के मन में खयाल आया कि क्यों न हम लोग भारतीय जाली मुद्रा प्रिंटिंग मशीन से छापने का कार्य करें, कि बस यूट्यूब आदि संसाधनों से जानकारी इकठ्ठा करते करते हम लोगों ने भारतीय जाली मुद्रा की छपाई का कार्य शुरू कर दिये । भारतीय जाली मुद्रा के छपाई के कार्य मे उच्च कोटी का पेपर इस्तेमाल किया जाता है जो A4 साइज का होता है जो काले रंग का लिफाफा जिसपर JK Excel Bond 80 GSM लिखा है इसी के कागज जाली रुपये के छपाई मे हम लोग उपयोग करते है। जो प्रिंटर मशीन मेरे पास से आपने बरामद किया है यह भी उच्च कोटी का प्रिंटर है जिससे हम पैसे छापते है । एक बार में चार नोटों को एक साथ A4 साइज पेपर पर स्कैन कर प्रिंट किया जाता है फिर बहुत ही बारीकी व व्यवस्थित तरीके से उसी A4 साइज पेपर पर दूसरे तरफ चारों नोटों को स्कैन कर प्रिंट कर दिया जाता है। उसके बाद कटर व कैंची आदि उपकरणो के माध्यम से एक पेपर में चार नोट काटकर तैयार कर लिया जाता है। जो चमकीले हरे रंग का सेलो टेप जाली करेन्सी नोट के बीच में आप लोगों को मिला है, कैंची से छोटे छोटे टुकड़े काटकर तार के जगह पर चस्पा कर दिया जाता है, जिससे नोट असली लगने लगते हैं और उसके बाद सभी नोटों की गड्डी बना लिया जाता है। फिर हम लोग जाली नोटों को अपने ग्राहकों को बेच देते हैं और उनसे असली नोट ले लेते हैं। बरामद शुदा पांच सौ रूपये की जाली करेंसी नोट को देखा गया तो पाया गया कि आरबीआई लिखित तार जहां होती हैं वहां एक लाईन में छोटे छोटे टुकड़े इसी सेलों टेप को काटकर इस तरह सेट किया गया है कि असली प्रतीत हो रहा है।
ग्राहकों के सम्बन्ध में पूछने पर बता रहा है कि अमरेश पाठक पुत्र शिवमूरत पाठक जो ग्राम बथावर थाना सकलडीहा जनपद चन्दौली व अरविन्द यादव पुत्र महेन्द्र यादव जो ग्राम कैलावर थाना बलुआ जनपद चन्दौली के रहने वाले हैं, ये हमारे अच्छे ग्राहक है, कुछ दिन पहले इन लोगों के पास से जाली नोट मिला था, जिसके कारण वो जेल में हैं, वह नोट हम ही लोगों ने छाप कर दिया था। हम लोग उनसे बीस हजार असली रूपये लेते थे और एक लाख के जाली नोट दे देते थे। जब से वो जेल गये हैं तब से मैं और मेरा भाई बहुत सतर्क रहते हैं। कुछ दिन बीत गया और हम लोग को जब स्थिति सामान्य लगा है तब मेरा भाई गोकुल पाण्डेय चन्दौली में ही कहीं रूम की बात किया था जहां हम लोग रूम लेकर प्रिन्टर मशीन लगाकर छपाई करने वाले थे। मेरा भाई दूसरी गाड़ी से हमारे पास आ रहा है जिसके पास जाली नोट छपाई के अन्य उपकरण है, पूर्व में भी वर्ष 2022 में मैं और मेरा भाई गोकुल थाना बलुआ से जेल जा चुके हैं परन्तु अच्छी कमाई हो जाने के कारण जेल से छूटने के बाद फिर हम दोनों भाईयो ने इस कार्य को प्रारम्भ कर दिया और इस वर्ष भी हमारे गैंग का एक सदस्य अमरेश पाठक व अरविन्द यादव थाना धानापुर से जेल चला गया । इसलिये हम लोगों ने यह प्लान तैयार किया कि अब चन्दौली जनपद में पैसे बाजार में नही डाले जायेगें, बल्कि चन्दौली में ही पैसे छपाई का काम किया जायेगा तथा अन्य जगहों पर सप्लाई किया जायेगा ताकि किसी को आभास न हो ।पकड़े न जाये इसलिये हम लोग अपने ग्राहकों से सिर्फ व्हाट्सएप के माध्यम से बात करते थे और उनको जाली नोट सप्लाई करते हैं। हम लोगों ने यह मशीन इसीलिए खरीदी है ताकि इसे कहीं भी ले जाकर जाली नोट की छपाई आसानी से कर सकें। जो जाली नोट हमारे पास से बरामद हुए हैं वह इसी मशीन से छपाई किये हुए हैं तथा जो A4 साईज के तीन पेज जो एक तरफ सौ रूपये की नोट की छपाई हुई है वह भी इसी मशीन से छपाई हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!