कृषि निर्यात के क्षेत्र में निरंतर सुधार से पांचवें से तीसरे पायदान पर पहुंचा उत्तर प्रदेश: अनुप्रिया पटेल

रिपोर्ट विकास तिवारी

कृषि निर्यात के क्षेत्र में निरंतर सुधार से पांचवें से तीसरे पायदान पर पहुंचा उत्तर प्रदेश: अनुप्रिया पटेल

 

 

केंद्रीय मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कृषि निर्यात हेतु एपिडा द्वारा आयोजित “क्षमता संवर्धन एवं क्रेता-विक्रेता बैठक” का किया शुभारम्भ

 

केंद्रीय मंत्री ने कहा – पिछले चार सालों में पूर्वांचल के कृषि उत्पाद जैसे बनारसी लंगड़ा आम, गाजीपुर एवं मीरजापुर की हरी मिर्च अंतरराष्ट्रीय बाजार में पहुंच रहे हैं

मीरजापुर, 14 फरवरी

“उत्तर प्रदेश ने कृषि निर्यात के क्षेत्र में निरंतर सुधार करते हुए सर्वाधिक कृषि निर्यात वाले राज्यों में पांचवें से तीसरे पायदान पर पहुंच गया है। वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान मात्र आठ महीने (अप्रैल 2023-नवंबर 23) में उत्तर प्रदेश ने 14682 करोड़ रुपए का कृषि निर्यात कर गुजरात और महाराष्ट्र के बाद तीसरा पायदान हासिल करने में सफल रहा है।“ केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री व जनपद की लोकप्रिय सांसद श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने बुधवार को एपीडा द्वारा सीखड़, चुनार क्षेत्र में कृषि निर्यात के लिए किसानों को जागरूक करने हेतु आयोजित “क्षमता संवर्धन एवं क्रेता-विक्रेता बैठक” को संबोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किया।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में भारत सरकार देश के किसान भाइयों एवं बहनों की आय को बढ़ाने और उनकी उपज का उचिचत मूल्य उपलब्ध कराने के लिए सदैव कटिबद्ध रही है। सरकार की नीतियों में किसान एक अति महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। इसी क्रम में, केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों के लिए अनेक कल्याणकारी यायेजनाओं का संचालन और उनके क्षमता संवर्धन के लिए अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा कि किसान को उत्पादक से निर्यातक बनाने के उद्देश्य से इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों तक उत्तर प्रदेश के उत्पाद पहुंचाने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वर्ष 2022 में भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा 28.59 करोड़ की लागत से सरदार वल्लभभाई पटेल निर्यात सुविधा केंद्र की स्थापना हेतु मंजूरी प्रदान की गई है। निर्यात सुविधा केंद्र का शिलान्यास 6 सितंबर 2022 को किया गया था। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल निर्यात सुविधा केंद्र का निर्माण कार्य पूर्ण होने पर कृषि निर्यात हेतु आवश्यक सुविधाएं किसानों को एक ही स्थान पर उपलब्ध हो जाएगी। इससे आसपास के किसान भाईयों का जीवन बदल जाएगा।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा कि फल एवं सब्जियों को तरोताजा रखने के उद्देश्य से वाराणसी में एक पैक हाउस स्थापित किया गया है, जिसका उद्धाटन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 24 मार्च 2023 को किया था। इसके अलावा गोरखपुर में भी एक पैक हाउस स्थापित किया गया है।

इन पैक हाउस में भंडारण की सुविधा भी मुहैया कराई जाती है। इसके अलावा मीरजापुर के निकट लाल बहादुर शास्त्री हवाई अड्डा पर कृषि निर्यात हेतु सिंगल विंडो सिस्टम कार्यात्मक होने से कस्टम कलीयरेंस, क्वारंटाइन क्लीयरेंस, कोल्ड रूम आदि जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं। पहले यहां कृषि निर्यात हेतु सुविधाएं नाम मात्र थीं। इन सुविधाओं के विकसित होने से पूर्वांचल के फल, फूल और सब्जियां अब नए कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। इसी वजह से लाल बहादुर शास्त्री हवाई हड्‌डे से पहली बार एक महीने में 100 मीट्रिक टन पेरिशेबल उत्पाद निर्यात संभव हो पाया है।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा कि पिछले चार सालों में पूर्वांचल के कृषि उत्पाद जैसे बनारसी लंगड़ा आम, गाजीपुर एवं मीरजापुर की हरी मिर्च, मीरजापुर एवं चंदौली का चावल और यहां तक कि ताजे गुलाब एवं गेंदा के फूल भी अंतरराष्ट्रीय बाजार में भेजे जा रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा कि आज एपीडा द्वारा आयोजित “क्षमता संवर्धन एवं क्रेता-विक्रेता बैठक” का उद्देश्य न केवल पूर्वांचल क्षेत्र से कृषि निर्यात को बढ़ावा देना है, अपितु किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य दिलाना एवं उन्नत खेती की ओर अग्रसर करना भी है।

श्रीमती पटेल न कहा कि जहां सिखड़ में हरी मिर्च की पैदावार होती है तो वहीं जमालपुर को धान का कटोरा कहा जाता है। इसी प्रकार बहुत कुछ है जो हम दुनिया के बाजारों में बेच सकते हैं और उससे अधिक आमदनी प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यहां पर लगाए गए स्टालों पर कृषि से संबंधित तमाम जानकारी दी जा रही है। आप स्टालों पर तैनात विशेषज्ञों से बात करें और उनसे सीखें, सीखने से ही आप सभी आगे बढ़ेंगे। जानकारी के बिना तरक्की संभव नहीं है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस जागरूकता कार्यक्रम से जनपद के किसानों को कृषि की नई तकनीकों और कृषि निर्यात से जुड़ी जानकारियों को साझा कर कृषि निर्यात में दक्ष बनाने में सहायता प्रदान करेगा। यहां देश के कृषि क्षेत्र के वैज्ञानिकों एवं अन्य विशेषज्ञों द्वारा किसानों को उत्कृष्ट तकनीकों के बारे में भी जानकारी दी जाएगी।

 

केंद्रीय मंत्री ने प्रस्तावित सरदार पटेल कृषि निर्यात केंद्र का किया निरीक्षण:

इसके अलावा श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने चुनार में प्रस्तावित सरदार पटेल कृषि निर्यात केंद्र का स्थलीय निरीक्षण किया और एपिडा के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि निर्यात सुविधा केंद्र का निर्माण गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए और इसे समय से पूर्ण करें।

इस अवसर पर राज्यसभा सांसद श्री रामसकल जी, विधायक श्री सुनील पटेल, जिला कोऑपरेटिव बैंक के चेयरमैन जगदीश सिंह, डीएम प्रियंका निरंजन, सीडीओ विशाल कुमार, एपिडा के अध्यक्ष अभिषेक देव व सचिव सुधांशु, अपना दल एस के जिलाध्यक्ष इंजी.राम लौटन बिंद, ब्लॉक प्रमुख सीखड़ सत्येंद्र बहादुर सिंह, किसान यूनियन के अध्यक्ष राजेंद्र शास्त्री, जिला कृषि निदेशक विकेश पटेल सहित कई वरिष्ठ पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!