परमात्मा के सानिध्य की लालसा ही उपासना है

रोहित सेठ

संस्थापक श्री आर्य महिला हितकारिणी महापरिषद, श्री विश्वेश्वर ट्रस्ट सोसायटी, श्री भारत धर्म महामंडल, श्री महामाया ट्रस्ट समिति, श्री वेणी माधवपुर ट्रस्ट के 74 वे निर्वाण दिवस 28 जनवरी 2024 से विश्वकल्याणर्थ आयोजित श्री हनुमान चालीसा पाठ के तीसरे दिन 6730 पाठ का पारायण पूर्ण हुआ I 31 जनवरी 2024, बुधवार को श्री हनुमान जी का सोडसो प्रकार पूजनोपरांत वैदिक ब्राह्मण का पूजन संस्था के सेक्रेटरी सत्यनारायण पांडे ने किया I
धर्मIनुरागियों को संबोधित करते हुए पांडे जी ने कहा कि पूज्यपद महर्षि स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज श्री भारत धर्म महामंडल की स्थापना करके काशी को धरती से सनातन वैदिक आर्य संस्कृति का दिव्य आलोक उद्भासित किया था I आर्य संस्कृति के संरक्षणर्थ देश की कन्या शक्ति आर्य मेघा श्रेष्ठ सदाचार संपन्न हो और संस्कृति को संवर्धित व संपोषित करने के लिए लोकहित मंगल कामना से आर्य महिला हितकारिणी महापरिषद का गठन किया एवं वैदिक सनातन धर्म कीऔपस्वIनिक भावधारा प्रवाहमांन हो I भगवती श्री वेद माता गायत्री और भगवती श्री अन्नपूर्णा के श्री विग्रह के प्रतिष्ठा के संकल्प को संस्था ने पूर्ण किया I
श्री पांडे जी ने कहा कि अभाव की पूर्ति के लिए मनुष्यों की स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है I परमात्मा की आयु अनंत है, शक्ति अनंत है, ज्ञान अनंत है और आनंद अनंत है I इस कारण परमात्मा के सानिध्य से अपने अभाव को दूर करने की लालसा मनुष्य में रहती है I यह जो उनके पास पहुंचने की लालसा है इसी को उपासना करते हैं I उप अर्थात समीप और आस धातु का अर्थ प्राप्त होता है अर्थात् परमात्मा के समीप या उनके सानिध्य प्राप्त करने के उपाय का नाम उपासना या साधना है I
काम क्रोध ईर्ष्या आदि से मुक्त होने का सरल उपाय उपासना है I आप सभी भगवत प्रेमियों पर हनुमान जी की कृपा होगी I
उक्त कार्यक्रम में सर्वश्री दीनानाथ झुनझुनवाला, वीरेंद्र नाथ तिवारी, अवधेश नारायण सिंह, प्रमोद सिंह, डॉ0 प्रेम शंकर पांडे ,गोपाल नारायण पांडे, शिवप्रसाद श्रीवास्तव ,मुकेश पाठक, सुनील पाठक, सत्येंद्र मिश्रा, शंभू नाथ चतुर्वेदी, आचार्य अनिल तिवारी, विकास तिवारी,पंडित मुरारी उपाध्याय, नीरज पांडे, कमल श्रीवास्तव, मोहन पांडे, धनंजय दुबे, संतोष दुबे, राकेश पांडे आदि उपस्थित रहे  I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!