देश के दूरस्थ कोने में बैठे उद्यमियो के उत्पादो को जेम पोर्टल से जोड़कर बड़ा बाजार उपलब्ध कराना  प्रधानमंत्री जी की मंशा -अनुप्रिया पटेल  

रिपोर्ट: विकास तिवारी

 

देश के दूरस्थ कोने में बैठे उद्यमियो के उत्पादो को जेम पोर्टल से जोड़कर बड़ा बाजार उपलब्ध कराना  प्रधानमंत्री जी की मंशा -अनुप्रिया पटेल

मा0 केन्द्रीय राज्यमंत्री वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय भारत सरकार नेजी0आई0सी0 महुवारिया में आयोजित ‘‘जेम संवाद मेला’’ का दीप प्रज्वलित कर किया शुभारंभ

 

मीरजापुर के उद्यमियो और कारीगरो के लिये जेम प्लेटफार्म तक पहुंच बनाने के उद्देश्य से जेम संवाद मेला का किया गया आयोजन, गवर्नमेंट ई मार्केटप्लेस (जेम) से जुड़ें, अपना कारोबार बढ़ायें

 

दुनिया की तीसरी इकोनामी अर्थव्यवस्था की तरफ भारत-2047 तक विकसित भारत बनाने में 142 करोड़ भारतीय का होगा महत्वपूर्ण योगदान -मा0 केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री

 

मीरजापुर 23 दिसम्बर 2023- देश के सभी केंद्रीय और राज्य सरकारों के मंत्रालयों, विभागों और सार्वजनिक उपक्रमों के लिए वन-स्टाप आनलाइन खरीद मंच गवर्नमेंट ई मार्केटप्लेस (जेम) के द्वारा आज मीरजापुर जीआईसी मैदान में आयोजित जेम संवाद मेला का भव्य आयोजन किया गया। जेम संवाद मेला का शुभारम्भ मा0 केन्द्रीय राज्यमंत्री वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय भारत सरकार श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर मा0 विधायक छानबे श्रीमती रिंकी कोल, जिला अध्यक्ष भाजपा बृज भूषण सिंह, जिला अध्यक्ष अपना दल एस इंजीनियर राम लौटन बिन्द, अध्यक्ष नगर पालिका मीरजापुर श्याम सुन्दर, चेयरमैन सहकारिता जगदीश पटेल, जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन, मुख्य विकास अधिकारी विशाल कुमार के अलावा अन्य गणमान्य व उद्यमी उपस्थित रहें।

 

मा0 केन्द्रीय मंत्री ने दीप प्रज्जलन के पूर्व जनपद मीरजापुर व आस पास के जनपदो से आये कारोबारियो, उद्यमियों, हस्तशिल्पियों, पीतल व्यवसाइयो, महिला स्वंय समूहो के द्वारा लगाये गये अपने उत्पादो के स्टाल का निरीक्षण किया गया तत्पश्चात मंच से उपस्थित उद्यमियों व व्यवसाइयों का आह्वान करते केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जेम से जुड़कर अपना कारोबार बढ़ाये इससे न सिर्फ मिर्जापुर में रोजगार और पारंपरिक उद्योगों को बढ़ावा हासिल होगा बल्कि इस पूरे क्षेत्र में आर्थिक विकास को बल मिलेगा।

उन्होने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी समावेशी विकास के पक्षधर हैं और उनका प्रयास है कि देश का प्रत्येक व्यक्ति आगे बढ़ सके और देश को उन्नत और विकसित बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सके। जेम पोर्टल प्रधानमंत्री जी की इन्हीं अपेक्षाओं पर खरा उतरने का प्रयास कर रहा है और इसीलिए इसने देशभर के कोने कोने से सभी कारोबारियों, उद्यमियों, कारीगरों, हस्तशिल्पियों, महिलाओं और स्वंय सहायता समूहों को अपने साथ जोड़ा है। जेम ने अपने पोर्टल पर यह सुनिश्चित किया है कि इस मंच पर न सिर्फ दक्षता के साथ काम हो बल्कि पूरी प्रक्रिया पारदर्शी और समावेशी हो।

उन्होेने कहा कि जेम ऐसा प्लेटफार्म (माध्यम) है जो देश के उद्यमियों, कारीगरों, बुनकरों और स्वंय सहायता समूहों को देश के लगभग एक लाख बीस हजार सरकारी क्रेताओं (खरीददारों) से जोड़ने का काम करता है। इसके साथ-साथ यह देश भर के दूर-दराज इलाकों के कारीगरों, बुनकरों और महिला उद्यमियों को जोड़ने का भी महत्वपूर्ण कार्य कर रही है।

मा0 केन्द्रीय मंत्री कहा कि मीरजापुर के लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखकर आज इस जेम संवाद मेले का आयोजन किया गया है। जेम एक राष्ट्रीय सार्वजनिक पोर्टल है इसलिए आप सभी कारोबारी, उद्यमी जेम से जुड़ें और अपना कारोबार बढ़ायें। उन्होने कहा कि आपको जेम पोर्टल पर पंजीकरण कराने के लिये इधर-उधर भटकने की आवश्यकता नही है आज बड़ा सौभाग्य है कि स्वंय जेम व उनके अधिकारी आपके द्वार आये है इस मौके का आप सभी लोग भरपूर फायदा उठाएं और देश दुनिया को बता दें कि मीरजापुर वाले क्या करते हैं और क्या कर सकते हैं। उन्होने बताया कि जेम पर कारोबार का रजिस्ट्रेशन करना बहुत ही आसान है और आज यहां निशुल्क रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है तथा इस कार्यक्रम स्थल पर भी रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को समझाया और सिखाया जा रहा है। यह प्रकिया पिछलक दो दिनो सेचल रही है काफी रजिस्ट्रेशन करवा रहे हैं और यदि आपको रजिस्ट्रेशन कराने में कोई समस्या आ रही है तो जेम के अधिकारी यहां मौजूद हैं जो इस काम में आपकी मदद करेंगे।

देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी समावेशी विकास के पक्षधर है ताकि देश का प्रत्येक व्यक्ति आगे बढ़ सके और देश को विकसित बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सके। जेम पोर्टल प्रधानमंत्री जी की अपेक्षाओं पर खरा उतरने का प्रयास कर रहा है और इसीलिए इसने देशभर के कोने-कोने से सभी कारोबारियों, उद्यमियों, कारीगरों (हस्तशिल्पों) महिलाओं और स्वंय सहायता समूहों को अपने साथ जोड़ा है। इस प्रक्रिया में जेम ने बीच-बीच में आने वाली सभी रुकावटों का समाधान निकाला है और यह सुनिश्चित किया है कि न सिर्फ दक्षता के साथ काम हो बल्कि पूरी प्रक्रिया भी पारदर्शी हो। जेम पर 49 प्रतिशत कारोबारों की आपूर्ति डैडम् के द्वारा हो रही है।

मीरजापुर के उद्यमियों और कारीगरों के लिए जेम प्लेटफार्म तक सीधी पहुँच बनाने के उद्देश्य से किया गया है ताकि आप किसी बिचैलिए और एजेंट के चक्कर में न फंसे और स्वयं अपनी मदद कर सकें । उन्होने सभी से अपील करते हुये कहा कि जेम के अधिकारियों के सहयोग से आप अपने कारोबार को बढ़ायें, अपने सपने साकार करें और राष्ट्र निर्माण में अपना सहयोग दें। उन्होने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में आज भारत दुनिया की पांचवी अर्थ व्यवस्था बन चुका है और हम सभी का प्रयास है कि दुनिया की तीसरी इकोनामी अर्थ व्यवस्था बनकर दिखायेंगे तभी 2047 तक विकसित भारत बन सकेगा। विकसित भारत बनाने में सभी 142 करोड़ भारतीयों का महत्वपूर्ण योगदान होगा। इस अवसर पर इस अवसर पर मा0 केंद्रीय मंत्री ने उद्यमी मोहन अग्रवाल, अभिषेक अग्रवाल, चंद किशोर अग्रवाल, मो0 शादाब, निकेत अग्रवाल, दर्शन सिंह, फराह खान, अमरेश यादव, सुशांत ठाकुर एवं अंकित कुमार को प्रमाण पत्र भी वितरित किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने मीरजापुर उद्यमियों से अपील करते हुये कहा कि जनपद के सभी छोटे बड़े सूक्ष्म लघु उद्यमी वह किसी क्षेत्र में कार्य कर रहे हो जेम से जुड़े ताकि देश के प्रत्येक सरकारी कार्यालयों में मीरजापुर के उत्पाद को क्रय किया जा सकें। इस अवसर मा0 विधायक छानबे श्रीमती रिंकी, जिला अध्यक्ष भाजपा बृज भूषण सिंह, अध्यक्ष नगर पालिका श्याम सुन्दर केसरी, ए0सी0ई0ओ0 जेम वाई के पाठक, रक्षा के्रेता और एम0एस0आई0 विक्रेमा रेलवे, अजीत वी चैहाण जेम ने भी उद्यमियों सम्बोधित किया तथा जेम पोर्टल से जुड़ने का आह्वान किया।

गवर्नमेंट ई मार्केटप्लेस (जेम) के बारे में पोर्टल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्री प्रशांत कुमार सिंह ने विस्तार से बताया। सीईओ के अनुसार जेम ने अब तक लगभग 18 लाख से अधिक विक्रेताओं को अपने साथ जोड़ा है। सरकारी खरीद प्रक्रिया में जेम ने क्रेता और विक्रेताओं के बीच में आने वाली सभी रुकावटों का समाधान निकाला है। और इससे देश के खजाने को भारी बचत हो रही है। एक अंदाजे के मुताबिक अब तक इस मंच से देश को लगभग 60 हजार करोड़ रूपये की बचत हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!