केंद्रीय मंत्री ने मेला में अधिक से अधिक लोगों के शामिल होने के लिए किया आह्वान

रिपोर्ट विकास तिवारी

केंद्रीय मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल के विशेष प्रयास से मिर्ज़ापुर में रोजगार व परंपरागत उद्योग को बढ़ावा देने हेतु ‘जेम संवाद मेला’ का होगा आयोजन

केंद्रीय मंत्री ने मेला में अधिक से अधिक लोगों के शामिल होने के लिए किया आह्वा
मिर्ज़ापुर, 21 दिसंबर
केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री एवं जनपद की लोकप्रिय सांसद श्रीमती अनुप्रिया पटेल के विशेष प्रयास से जनपद में रोजगार की वृद्धि एवं परंपरागत रोजगार को बढ़ावा देने के लिए मिर्ज़ापुर के जीआईसी मैदान में 24 दिसंबर को प्रातः 10 बजे ‘जेम संवाद मेला’ का आयोजन होने जा रहा है।
केंद्रीय मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा है कि भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अधीन जेम संस्था ने अपने पोर्टल से मिर्जापुर के सभी उद्यमियों, कारीगरों, हस्तशिल्पियों, बुनकरो और स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को जोड़कर उनके उत्पादों के लिए एक बड़ा बाजार उपलब्ध कराने का फैसला किया है। इसके माध्यम से केंद्र और राज्य सरकार के तमाम मंत्रालय तमाम विभाग और तमाम स्वायत्त संस्थाओं को अपने उत्पाद की बिक्री के लिए एक बड़ा बाजार उपलब्ध होगा। इससे उद्यमियों का, आपका कारोबार बढ़ेगा, आमदनी बढ़ेगी और आपके जीवन में खुशहाली आएगी।
केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने आह्वान किया है कि ‘जेम संवाद मेला’ के माध्यम से मिर्जापुर की समृद्धि खुशहाली और आर्थिक विकास की इस मुहिम को आगे बढ़ाने हेतु 24 दिसंबर 2023 को जी.आई.सी. मैदान मिर्जापुर में सुबह 10:00 बजे ‘जेम मेला संवाद’ में हिस्सा लें।
केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का सपना है 2047 का विकसित भारत, यह सपना 142 करोड़ भारतीयों के तपस्या से ही पूरा होना है। उन्होंने कहा कि गवर्नमेंट की ई मार्केट प्लेस जेम ने तय किया है कि देश के कोने कोने में बसे हुए उद्यमियों, कारीगरों, कारोबारी, हस्तशिल्पियों, बुनकरो और स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को खुद से जोड़ने, कार्य की दक्षता और पारदर्शिता को सुनिश्चित किया। अब तक जेम में एक लाख बीस हजार सरकारी खरीदारों को देश के कोने कोने में बसे हुए विभिन्न उत्पाद बनाने वाले विक्रेताओं से जोड़ने का काम किया है। आज देश के दूरस्थ इलाकों में बसे हुए कारीगरों, बुनकरो, हस्तशिल्पियों, स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को, उद्यमियों को सभी को जेम पोर्टल के माध्यम से अपना उत्पाद बेचने का एक बड़ा मंच मिल रहा है। उन्होंने कहा कि मिर्जापुर में 200 साल पुराना पीतल के बर्तन बनाने का व्यवसाय है, जिससे हजारों परिवार जुड़े हुए हैं और इसके साथ ही मिट्टी के पात्र बुनकर कालीन की बुनाई करके लकड़ी के खिलौने बनाकर और चुनार के बलुआ पत्थर की शिल्पकार करके अपनी जीविकोपार्जन करने वाली बहुत बड़ी आबादी है। जेम ने फैसला किया कि हमारे मिर्जापुर जनपद के उद्यमियों को, कारीगरों को, हस्तशिल्पियों को अपने उत्पाद बेचने हेतु ‘जेम संवाद मेला’ का आयोजन होने जा रहा है। उक्त आशय की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी शंकर सिंह चौहान ने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!